Cyclone Amphan : Eu Announces Initial Funding Of 500,000 Euro For Affected People In India – अम्फान तूफान: यूरोपीय संघ ने भारत को दी पांच लाख यूरो की आर्थिक मदद


वर्ल्ड डेस्क, नई दिल्ली।
Updated Sat, 23 May 2020 12:52 AM IST

ख़बर सुनें

भारत में अम्फान तूफान से प्रभावित इलाकों के लिए यूरोपीय संघ (ईयू) ने पांच लाख यूरो की शुरुआती आर्थिक मदद की घोषणा की है। बता दें कि अम्फान तूफान से भारत में सबसे अधिक प्रभावित इलाकों पश्चिम बंगाल और ओडिशा के क्षेत्र शामिल हैं। पश्चिम बंगाल में तूफान की वजह से 80 लोगों की मौत हुई है और हजारों लोग बेघर हुए हैं। वहीं ओडिशा के तटीय जिलों में भी भारी नुकसान हुआ है।

यूरोपीय संघ के आपदा प्रबंधन आयुक्त जनेज लेनरिक ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि संघ तूफान से प्रभावित लोगों की तात्कालिक जरूरतों को मुहैया कराने के लिए आर्थिक मदद करेगा, साथ ही साथ वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से बचाव के लिए मानवीय सहायता और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की रक्षा करेगा।

बयान में यह भी कहा गया है कि बिना देरी लोगों की मदद करने की प्रतिबद्धता के तहत भारत के लिए पांच लाख और बांग्लादेश को भी 11 लाख यूरो की अंतरिम आर्थिक मदद दी जा रही है। लेनरिक ने कहा कि मेरी संवेदनाएं अम्फान तूफान का सामना करने वाले बहादुर लोगों और खासतौर पर उनके प्रति है जिन्होंने अपने प्रियजनों को इस दौरा खो दिया है।

उन्होंने कहा, मैं भारत और बांग्लादेश में हुई मौतों, तूफानी हवाओं, बाढ़ और भूस्खलन से घरों, आधारभूत संरचना और जीविका को हुए नुकसान से आहत हूं। उन्होंने कहा कि हम अपने भारतीय और बांग्लादेशी मित्र जो इस समय मुश्किलों को सामना कर रहे हैं उनकी परेशानी को समझ सकते हैं।

यह तूफान ऐसे समय आया जब वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सामाजिक दूरी के नियम का पालन करना अति आवश्यक है। यह एक संकट के बीच नया संकट है। लेनरिक ने कहा कि यूरोपीय संघ का कॉपरनिकस आपात प्रबंधन सेवा नुकसान का आकलन करने के लिए उपग्रह मानचित्र उपलब्ध कराने में भी मदद करेगा।

भारत में अम्फान तूफान से प्रभावित इलाकों के लिए यूरोपीय संघ (ईयू) ने पांच लाख यूरो की शुरुआती आर्थिक मदद की घोषणा की है। बता दें कि अम्फान तूफान से भारत में सबसे अधिक प्रभावित इलाकों पश्चिम बंगाल और ओडिशा के क्षेत्र शामिल हैं। पश्चिम बंगाल में तूफान की वजह से 80 लोगों की मौत हुई है और हजारों लोग बेघर हुए हैं। वहीं ओडिशा के तटीय जिलों में भी भारी नुकसान हुआ है।

यूरोपीय संघ के आपदा प्रबंधन आयुक्त जनेज लेनरिक ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि संघ तूफान से प्रभावित लोगों की तात्कालिक जरूरतों को मुहैया कराने के लिए आर्थिक मदद करेगा, साथ ही साथ वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से बचाव के लिए मानवीय सहायता और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की रक्षा करेगा।

बयान में यह भी कहा गया है कि बिना देरी लोगों की मदद करने की प्रतिबद्धता के तहत भारत के लिए पांच लाख और बांग्लादेश को भी 11 लाख यूरो की अंतरिम आर्थिक मदद दी जा रही है। लेनरिक ने कहा कि मेरी संवेदनाएं अम्फान तूफान का सामना करने वाले बहादुर लोगों और खासतौर पर उनके प्रति है जिन्होंने अपने प्रियजनों को इस दौरा खो दिया है।

उन्होंने कहा, मैं भारत और बांग्लादेश में हुई मौतों, तूफानी हवाओं, बाढ़ और भूस्खलन से घरों, आधारभूत संरचना और जीविका को हुए नुकसान से आहत हूं। उन्होंने कहा कि हम अपने भारतीय और बांग्लादेशी मित्र जो इस समय मुश्किलों को सामना कर रहे हैं उनकी परेशानी को समझ सकते हैं।

यह तूफान ऐसे समय आया जब वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सामाजिक दूरी के नियम का पालन करना अति आवश्यक है। यह एक संकट के बीच नया संकट है। लेनरिक ने कहा कि यूरोपीय संघ का कॉपरनिकस आपात प्रबंधन सेवा नुकसान का आकलन करने के लिए उपग्रह मानचित्र उपलब्ध कराने में भी मदद करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!